Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

महतारी वंदन योजना से महिलाओं के चेहरे पर झलक रही खुशी

  किसी ने बच्चों की पढ़ाई में, तो किसी ने घर की जरूरतें पूरी करने की बात कही उत्तर बस्तर कांकेर । राज्य शासन की महत्वाकांक्षी महतारी वंदन यो...

 

किसी ने बच्चों की पढ़ाई में, तो किसी ने घर की जरूरतें पूरी करने की बात कही
उत्तर बस्तर कांकेर । राज्य शासन की महत्वाकांक्षी महतारी वंदन योजना महिलाओं के लिए नई उमंग और उत्साह लेकर आई है। जिले के विभिन्न गांवों में आयोजित होने वाले शिविरों में योजना का लाभ उठाने महिलाएं बड़ी संख्या में आ रही हैं। कांकेर विकासखंड अंतर्गत ग्राम बागोडार में आज समाधान शिविर का आयोजन हुआ, जिसमें बड़ी संख्या में महिलाओं ने महतारी वंदन योजना का फॉर्म भरा। शिविर में फॉर्म भर रहीं ग्राम बागोडार निवासी महिला श्रीमती सुकारो बाई निषाद ने बताया कि योजना से प्रतिमाह एक हजार रुपए की राशि मिलेगी, इससे बहुत आर्थिक मदद मिलेगी। उन्होंने कहा वे इस राशि का उपयोग राशन सामान के साथ ही अपने लिए श्रृंगार के सामान और साड़ी खरीदने में करेंगी। इसी प्रकार श्रीमती चंदा पटेल ने बताया कि उनके पति की मृत्यु हो चुकी है। उनके दो बच्चे हैं। छोटा बेटा कक्षा तीसरी में और बड़ी बेटी में कक्षा आठवीं में पढ़ाई कर रही हैं। वे अपने परिवार का पालन-पोषण मजदूरी करके करती हैं। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा  महिलाओं के हित में शुरु की गई महतारी वंदन योजना के बारे में जानकारी मिलने से उन्हें बहुत खुशी हुई। इस योजना से तहत प्रतिमाह मिलने वाली राशि से उनके बच्चों के परवरिश में काफी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस राशि का उपयोग वह अपने बच्चों की आगे की पढ़ाई में लगाएंगी जिससे भविष्य में वे अपने पैरों में खड़े हो सके। ग्राम बागोडार निवासी श्रीमती चित्ररेखा नेताम ने भी महतारी वंदन योजना का आवेदन भरते हुए बताया कि आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की महिलाओं के लिए यह योजना बहुत ही राहत देने वाली है। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय को महतारी वंदन योजना शुरू करने के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि इससे महिलाएं आर्थिक रूप सशक्त होंगी। समाधान शिविर में फॉर्म भरने पहुंचीं महिलाओं ने महतारी वंदन योजना के लिए खुशी जताते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय के प्रति आभार प्रकट किया।

No comments