Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

विधायक के भाई के क्रेशर मशीन में ऑपरेटर की फंसने से मौत

  मनेंद्रगढ़। क्रेशर के जॉब प्लेट में पिसने से ऑपरेटर की दर्दनाक मौत के मामले को दबाने का पूरा प्रयास आनन-फानन में सुबह 6 बजे ही हो गया पी...

 

मनेंद्रगढ़। क्रेशर के जॉब प्लेट में पिसने से ऑपरेटर की दर्दनाक मौत के मामले को दबाने का पूरा प्रयास आनन-फानन में सुबह 6 बजे ही हो गया पीएम रात में हुई थी। घटना सुबह तक आनन-फानन में मर्ग कायम कर रफा-दफा करने का प्रयास क्रेशर संचालक पर 304 का मामला 4 दिन बाद भी नहीं हो पाया पंजीबद्ध पुलिस जांच की बात कह कर मामले को क्यों टाल रही है? खड़गवां चिरीमिरी,15 जून 2023 (घटती-घटना) मनेंद्रगढ़ विधायक डॉ विनय जायसवाल के भाई विनोद जायसवाल के क्रशर में रविवार शाम को मशीन में फंसने से क्रेशर ऑपरेटर की दर्दनाक मौत हो गई मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना में लिया है। जानकारी के अनुसार मनेंद्रगढ़ विधायक के भाई विनोद जायसवाल के नाम पर ब्लॉक मुख्यालय खड़गवां में क्रेशर संचालित है,जिसमें क्रशर ऑपरेटर के रूप में राजू उर्फ आनंद सिंह पिता स्व देवी प्रसाद (30) निवासी नागपानी काम करता था घटना तिथि रविवार शाम करीब 4-5 बजे के बीच क्रशर चलाते समय क्रशर में एक पत्थर फंस गया था। वहीं अचानक बिजली भी गुल हो गई थी जिससे ऑपरेटर क्रशर में फंसे पत्थर को निकाल रहा था इसी बीच अचानक बिजली आ गई और क्रशर मशीन चलने लगी। जिससे ऑपरेटर क्रशर मशीन के बेल्ट में फंसकर सीधे जॉब प्लेट में पिस गया जिससे ऑपरेटर की क्रशर में ही दर्दनाक मौत हो गई। मामले में खड़गवां पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना में लिया है। क्रेशर में दबकर मौत मामले में चार दिन बीत जाने के बाद भी क्रेशर संचालक के विरुद्ध मामला दर्ज पुलिस ने नहीं किया है। खड़गवां पुलिस थाना क्षेत्र की यह घटना है और पुलिस अभी जांच की बात कर रही है जबकि मामले में प्राथमिकी दर्ज हो जानी चहिए थी क्योंकि मामला मौत से जुड़ा हुआ है। विधायक का है क्रेशर जहां घटी घटना,इसलिए तो कहीं पुलिस मामला पंजीबद्ध करने से बच नहीं रही खड़गवां के जिस क्रेशर में यह घटना घटी है वह मनेंद्रगढ़ विधायक के भाई का क्रेशर है और इसीलिए पुलिस मामले में प्राथमिकी दर्ज करने से बच रही है ऐसा माना जा रहा है,वरना अन्य किसी के क्रेशर की यह घटना होती अब तो पुलिस की कार्यवाही हो चुकी होती और मामला भी दर्ज हो चुका होता,किसी भी तरह की ढील अन्य के मामले में पुलिस नहीं दिखाती। मामले में सवाल यह भी है की क्या केवल विधायक का भाई होना ही काफी है किसी कानूनी मामले से बचने के लिए किसी अपराध से दोषमुक्त बिना जांच और प्राथमिकी दर्ज हुए बचने के लिए। खड़गवा के मामले में यही देखने को मिल रहा है। विधायक के भाई पर और उनके क्रेशर के विरुद्ध कोई कार्यवाही नजर नहीं आई जबकि एक जान लापरवाही से चली गई। रविवार शाम 5-6 बजे की घटना है। संचालक विनोद जायसवाल के क्रशर मशीन में फंसने से ऑपरेटर की मौत हो गई। मामले में मर्ग कायम कर विवेचना में लिया गया है।

No comments