Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने शाला प्रवेशी बच्चों का तिलक लगाकर किया स्वागत

  26 बालिकाओं को वितरित की गई साइकिलें रायपुर। नवीन शिक्षा सत्र के प्रारम्भ होने के प्रथम दिवस पर छत्तीसगढ़ शासन के स्कूल शिक्षा मंत्री ड...

 


26 बालिकाओं को वितरित की गई साइकिलें

रायपुर। नवीन शिक्षा सत्र के प्रारम्भ होने के प्रथम दिवस पर छत्तीसगढ़ शासन के स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम एवं राज्य हस्तशिल्प बोर्ड अध्यक्ष श्री चंदन कश्यप कोण्डागांव में आयोजित जिला स्तरीय शाला प्रवेशोत्सव में शामिल हुए। इस अवसर शिक्षा मंत्री द्वारा शाला में प्रवेश करने वाले बच्चों का तिलक लगाकर फूलमाला के साथ स्वागत करते हुए उन्हें स्कूली गणवेश एवं पाठ्य पुस्तकें प्रदान की गयी। स्कूल शिक्षा मंत्री श्री टेकाम ने जिले में 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाओं में पिछले वर्ष की तुलना में बहुत अच्छे परीक्षा परिणामों के लिए बधाई देते हुए कहा कि राज्य शासन द्वारा गुणवत्तायुक्त शिक्षा को बहुत महत्व दिया जा रहा है। शिक्षा के उत्कृष्ट संस्थानों के रूप में हर जिले में आत्मानंद स्कूल प्रारंभ किए जा रहें हैं। एक समय था जब लोग निजी स्कूलों में प्रवेश हेतु प्रयास किया करते थे अब लोग स्वामी आत्मानंद में प्रवेश हेतु प्रयास कर रहें हैं जो उनकी गुणवत्ता का परिचायक हैं। उन्होंने बताया कि पहले राज्य में केवल 02 आत्मानंद संस्थानों के साथ शुरुआत हुई थी पर उनके बेहतर परिणामों को देखते हुए अब राज्य में 700 से अधिक आत्मानन्द विद्यालय खोले जा रहे हैं। डॉ टेकाम ने बताया कि शासन द्वारा स्कूलों के बेहतर प्रबंधन के लिए स्कूल जतन योजना प्रारम्भ की गई है ताकि स्कूलों की आधारभूत सुविधाओं में उन्नयन के साथ बच्चों को अच्छा माहौल भी प्रदान किया जा सके। इसके साथ ही बालबाड़ी, 10 हज़ार से अधिक शिक्षकों की भर्ती, अंतराष्ट्रीय स्तर के स्कूल के निर्माण जैसे कार्य भी शासन द्वारा किये जा रहे हैं। उन्होंने कोरोना काल में शिक्षकों द्वारा बच्चों के लिए किए गए नवाचारी प्रयोगों को भी सराहा और जिले में 33 स्कूलों को शतप्रतिशत परिणाम पाने पर प्रोत्साहित किया।  इस अवसर पर राज्य हस्तशिल्प बोर्ड अध्यक्ष एवं विधायक नारायणपुर श्री चन्दन कश्यप ने शाला में प्रवेश करने वाले बच्चों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि मैं खुद एक शिक्षक रहा हूं ऐसे में शिक्षक के रूप में अनुभव को साझा देते हुए बताया कि शिक्षक केवल मार्ग दिखाने का कार्य करते हैं। शिक्षकों के दिखाए मार्ग को जो अनुशरण करता है वह निश्चय ही सफलता प्राप्त करता है। शासन द्वारा बच्चों को निःशुल्क उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रयास किया जा रहा है जिसका परिणाम है कि राज्य के पिछड़े क्षेत्रों में बच्चे भी अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं और सभी के साथ कंधे से कंधा मिला कर आगे बढ़ रहे हैं। इस कार्यक्रम ने 26 बालिकाओं को शिक्षा मंत्री द्वारा साइकिल का वितरण किया गया साथ ही उन्होंने बालिकाओं से चर्चा करते हुए उन्हें सायकिल प्राप्ति पर बधाई देते हुए उन्हें पढ़कर आगे बढ़ने हेतु प्रेरित किया। इस दौरान जनपद पंचायत माकड़ी अध्यक्ष श्रीमती मोतीबाई नेताम, कोण्डागांव जनपद पंचायत उपाध्यक्ष श्री मनोज सेठिया सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं अधिकारी-कर्मचारी कार्यक्रम में उपस्थित थे।

No comments