Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

खैरागढ़ के वार्ड नं. 12 के महिला प्रत्यासी को जीता नहीं पाई , इधर विधानसभा उपचुनाव में कर रही हैं दावेदारी

abernews खैरागढ़। खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव में दमदार एवं बहुचर्चित प्रत्याशी के चयन को लेकर अब कवायद शुरू हो गई है। इसी के मद्देनजर गुरूवार की...


abernews खैरागढ़। खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव में दमदार एवं बहुचर्चित प्रत्याशी के चयन को लेकर अब कवायद शुरू हो गई है। इसी के मद्देनजर गुरूवार की दोपहर  छुईखदान स्थित कांग्रेस भवन में एवं रात्रि के समय खैरागढ़ के पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष मीरागुलाब चोपड़ा के निवास स्थान में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संगठन प्रभारियों द्वारा बैठक लिया गया। जहां पर पार्टी के संभावित दावेदारों सहित खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र के अलग-अलग सेक्टर व बूथों में निवास करने वाले कार्यकर्ताओं से मुलाखात करते हुए टिकट वितरण से पहले उन सब से चर्चा भी किया गया। संगठन के पदाधिकारियों ने सभी कार्यकर्ताओं को साधने की पुरजोर कोशिस की। खैर...
आइए हम बात करते हैं छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम द्वारा कही गयी दो टूक बातें , इन्होंने वर्तमान एवं आगामी चुनाव को लेकर प्रत्यासियों के संदर्भ में अपनी मंशा जाहिर करते हुए छुईखदान में उपस्थित कार्यकर्ताओं को सुझाव दिया था। उन्होंने कहा था कि पहले प्रत्यासी अपने वार्ड एवं अपने बूथ स्तर में मजबूत हो जाइये।  ऐसा उन्होंने कुछ महीने पहले अपने छुईखदान क्षेत्र में प्रवास के दौरान कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान ये बातें कहीं थी। जहां पर यशोदा नीलांबर वर्मा द्वारा अपने कुछ  समर्थित कार्यकर्ताओं के द्वारा अपने ही नाम की जिंदाबाद के जमकर नारेबाजी करवाते हुए कार्यक्रम के आधे बीच में पहुंचकर सबको चौका दिया था। जहां पर मोहन मरकाम जी खैरागढ़ विधानसभा के समस्त पदाधिकारियों सहित सभी कार्यकर्ताओं की बैठक ले रहे थे । बैठक के दौरान कार्यकर्ताओं द्वारा नारेबाजी की शोर भवन में गूंजने लगी थी। बैठक हो रही सभा में जोरजबरदस्ती एवं शोर शराबा करते हुए यशोदा के समर्थक भी आ धमके।  जिस पर मोहन मरकाम जी ने उदघोषक से माइक लेते हुए स्वंय माइक पकड़ कर , यशोदा , नीलांबर वर्मा पर घोर नाराजगी व्यक्त करते हुए उनसे रूष्ट हो गए थे। उन्होंने मंच से ही यशोदा नीलांबर वर्मा को फटकार लगाया था। उन्होंने उसी वख्त यह स्प्ष्ट कर दिया था कि जो अपने बूथ , वार्ड को जीत नहीं सकते वो दावेदारी करने से पहले एक बार जरूर सोच लेवे। आप लोग क्या सोचते हो? मुझे आप लोगों के बारे में कुछ पता नहीं है क्या? हमें सभी जानकारी मिल चुकी है।    यदि मेरे सामने इस तरह के दो चार लोगों की भीड़ एकत्र करके नारेबाजी करोगे?  तो क्या ऐसा करने से आप लोगों को चुनाव का टिकट मिल जाएगा? ऐसे में आप लोग बहुत गलत सोच रखे हो ।
अब सवाल ये उठता है की भरी सभा में उन्होंने ऐसा क्यों कहा? चलिए हम आपको बतातें हैं। हम बात करते हैं गत खैरागढ़ नगर पालिका चुनाव परिणाम की तो, यहाँ पर एक वार्ड और भी है जो भाजपा की झोली में चली गयी है। वार्ड नम्बर 12 से कांग्रेस के तरफ से महिला प्रत्यासी मधु चंद्राकर एवं भाजपा के तरफ से गिरजा चंद्राकर आमने सामने नगर पालिका के निकाय चुनाव में थी। जहाँ पर यशोदा वर्मा के पति नीलांबर वर्मा को वार्ड प्रभारी बनाया गया था। क्योंकि इस वार्ड में निवासरित भी हैं। ये वही यशोदा नीलांबर वर्मा हैं जो कांग्रेस पार्टी से खैरागढ़ विधानसभा के उपचुनाव में दावेदारी भी कर रहीं हैं। आपको बता दें कि करीबन दस वर्षों से इस वार्ड में निवासरित हैं एवं कृषि की दुकान संचालित कर व्यवसाय कर रहे हैं। खैर.. वैसे तो  इनका मूल निवास ग्राम पंचायत देवारिभाट है जहां पर कम रहते हैं किंतु शहर में निवास ज्यादा रहता है। 
इन्हें जनपद पंचायत खैरागढ़ के जनपद सदस्य के उपचुनाव में भी बढ़ी जिम्मेदारी मिली थी , किंतु वहाँ पर भी नीलांबर एवं यशोदा वर्मा कमजोर पड़ गए। नीलांबर वर्मा न तो अपना सामाजिक वोट दिला पाए और न ही अपने प्रत्यासी को जीत दिला पाए। वहीं भाजपा के विक्रांत सिंह के कार्यकर्ताओं ने भाजपा समर्थित  सामान्य वर्ग के प्रत्यासी शैलेन्द्र मिश्रा को कांग्रेस समर्थित डोमार वर्मा से एकतरफा जीत दिलाने में कामयाब हो गए।
  ऐसे में इनके द्वारा खैरागढ़ विधानसभा में प्रत्यासी बनाये जाने हेतु  दावेदारी करना , हमारे समझ से तो परेय है। शायद पार्टी इस बात को पचा ले।  पता नहीं ये खुफिया सर्वे वाले लोग किसके कहने एवं किस आधार पर इनका नाम सर्वे में चला रहे हैं। जनता से भी राय शुमारी करते हैं कि नहीं? अब यही लोग जाने। 
ऐसे ही एक वार्ड है जहां पर निलेन्द्र शर्मा जी का निवास है जो प्रदेश संगठन में अच्छे पद पर विराजमान हैं। किंतु नगर पालिका चुनाव में इनके वार्ड में भी इन माननीय का जोर नहीं चल पाया।  नेता जी भी खैरागढ़ विधानसभा से प्रबल दावेदार होने की दावेदारी कर रहे  हैं। जो नगर में कम दुर्ग भिलाई, रायपुर में ज्यादा दिखते हैं। खैर....
गुरूवार को प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री  अमरजीत चावला व पीयूष कोसरे, संगठन प्रभारी अरूण सिसोदिया व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव महमूद अली को खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र के प्रवास पर आये थे। जो आम जनता की पसन्द के प्रत्यासी को ढूंढ रहे थे। हमारे हिसाब से तो उन्हें जनता की पसन्द के साथ साथ सरकार की योजनाओं को जन जन तक ज़मीनी स्तर तक पहुंचाने वाले एवं विपक्ष को मुहंतोड़ जवाब देने वाले प्रत्यासी को ढूंढ़ना चाहिए । जो आम जन की समस्याओं को जनता तक पहुंचकर निराकरण करता हो।

No comments