Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

जो लोग ब्लीडिंग डिसआॅर्डर से ग्रस्त है, एलर्जी या बुखार होने पर गलती से भी न लगवाएं कोरोना वैक्सीन, भारत बायोटेक ने दी चेतावनी

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए वैक्सीनेशन का काम जारी है. इस बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट जारी कर कुछ लोगों को कोरोन...


नई दिल्ली।
देशभर में कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए वैक्सीनेशन का काम जारी है. इस बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट जारी कर कुछ लोगों को कोरोना वैक्सीन न लगवाने की चेतावनी जारी की है. देशभर से कोरोना वैक्सीन के कुछ प्रतिकूल प्रभाव सामने आने के बाद फैक्टशीट के रूप में ये चेतावनी जारी की गई है.

भारत बायोटेक का यह भी कहना है कि इस बात की संभावना बहुत कम है कि कोवैक्सीन से कोई गंभीर एलर्जिक रिएक्शन हो. भारत बायोटेक ने चेतावनी जारी करके बताया है कि कुछ बीमारी की अवस्था में लोगों को कोरोना की वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए. भारत बायोटेक ने कहा कि किसी बीमारी की वजह से आपकी इम्युनिटी कमजोर है तो भी आपको कोरोना वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए.

भारत बायोटेक के अनुसार, यदि आप कुछ ऐसी दवाएं ले रहे हैं, जिससे आपकी इम्युनिटी प्रभावित हो तो आपको कोरोना की वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए. भारत बायोटेक के अनुसार, जिन्हें एलर्जी की शिकायत हो या बुखार होने पर कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए. इसके अलावा जो लोग ब्लीडिंग डिसआॅर्डर से ग्रस्त हैं अथवा खून पतला करने की दवाई ले रहे हैं उन्हें भी कोरोना की वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए.
इसके अलावा गर्भवती महिलाएं तथा स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी कोवैक्सीन न लगवाएं. इसके अलावा स्वास्थ्य संबंधी गंभीर मामलों में भी कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए, इसके बारे में वैक्सीनेशन आॅफिसर को पूरी जानकारी देनी चाहिए. किसी बीमारी की वजह से आपकी नियमित दवाएं चल रही हैं तो इसकी जानकारी भी वैक्सीनेशन अधिकारी को देनी चाहिए.

हालांकि पहले केंद्र सरकार ने कहा है कि अ गर आप इम्युनोडेफिशिएंसी से ग्रस्त हैं या इम्युनिटी सप्रैशन पर हैं, यानि कि आप किसी अन्य ट्रीटमेंट पर चल रहे हैं तो भी  कोरोना वैक्सीन ले सकते हैं. मगर भारत बायोटेक द्वारा जारी बयान में इन लोगों को कोरोना वैक्सीन न लगवाने की सलाह दी गई है।

No comments