Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

हाई टेक SEX रैकेट का हुआ खुलासा ,पति-पत्नी बन चला रहे थे, आपत्तिजनक सामान के साथ 7 गिरफ्तार

  रांची: राजधानी रांची में एक हाईटेक सेक्स रैकेट पकड़ा गया है। पति-पत्नी मिलकर कॉलगर्ल के इस रैकेट को चलाते थे। पौष इलाके में चल रहे इस रैके...

 


रांची: राजधानी रांची में एक हाईटेक सेक्स रैकेट पकड़ा गया है। पति-पत्नी मिलकर कॉलगर्ल के इस रैकेट को चलाते थे। पौष इलाके में चल रहे इस रैकेट में सब कुछ हाइटेक तरीके से संचालित होता था। कम उम्र की लड़कियों की फोटो पहले व्हाट्सएप के ग्रुपों में भेजी जाती थी और फिर लड़की को सेलेक्ट करने के बाद रेट भी व्हाट्सएप पर ही तय की जाती थी। सबकुछ तय हो जाने पर लड़कियों को सीधे ठिकाने पर भेजा जाता था।सोनरेब विधि से शासकीय निर्माण कार्यों में प्रयुक्त कांक्रीट की कम्प्रेसिव स्ट्रेन्थ की होगी निगरानी

ये पूरा मामला राजधानी रांची में अरगोड़ा पुलिस ने अरगोड़ा के तारामणि अपार्टमेंट के एक फ्लैट में छापेमारी कर रविवार को सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया। फ्लैट से दो लड़की समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार लोगों में रातू रोड ग्वालाटोली का अनिल कुमार, कर्बला टैंक रोड का मो वसीम अकरम और मो साहिल, हिंदपीढ़ी ग्वालाटोली का मारूफ गद्दी, हरमू हाउसिंग कॉलोनी का सौरभ कुमार समेत दो युवती शामिल है। अनिल सेक्स रैकेट गिरोह का सरगना है। पकड़ी गई दो में से एक युवती उसकी कथित पत्नी है, जो लातेहार के बालूमाथ की है। वहीं दूसरी जमशेदपुर के कदमा की है। पुलिस को शिकायत मिली थी कि तारामणि अपार्टमेंट में देह व्यापार का धंधा चल रहा है।

सूचना पर अरगोड़ा पुलिस की टीम ने अपार्टमेंट के फ्लैट में छापा मारा। वहां दो युवक और युवतियां आपत्तिजनक स्थिति में पाए गए। वे पुलिस को देखकर भागने की कोशिश करने लगे, लेकिन महिला पुलिस की मौजूदगी में दोनों युवतियों समेत युवकों को धर दबोचा गया। फ्लैट के दूसरे कमरे से भी पुलिस ने तीन लोगों को दबोचा। छापेमारी के क्रम में फ्लैट से आपत्तिजनक सामग्री भी बरामद हुई है। किराए पर लिया फ्लैट, करने लगा गलत काम तारामणि अपार्टमेंट के जिस फ्लैट से पुलिस ने दो युवतियों को देह व्यापार के आरोप में गिरफ्तार किया है, उनमें से एक को रैकेट का सरगना अनिल अपनी पत्नी बताकर किराए पर फ्लैट लिया था।

अपार्टमेंट के जिस फ्लैट में देह व्यापार का धंधा चल  रहा था। उसके मालिक को अनिल ने सरकारी कर्मचारी बताकर फ्लैट किराए पर लिया था। मकान मालिक ने पुलिस को बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि फ्लैट में गलत काम चल रहा है। ग्राहकों के साथ व्हाट्सएप पर सौदा तय होता थाव्हाट्सएप पर ग्राहकों की बुकिंग की जाती थी। इसके लिए गिरोह के सरगना ने अपना व्हाट्सएप नंबर भी जारी किया था। पूछताछ में सरगना ने खुलासा किया कि उसने युवती की तस्वीर से लेकर रेट भी व्हाट्सएप पर ही तय करता है। फाइनल होने वा पेटीएम के माध्यम से राशि ली जाती है। इसके बाद ग्राहक को एड्रेस दिया जाता है कि कहां आना है।

 

 

 

 

 

 

No comments