Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

शेयर बाजार में हाहाकर, सेंसेक्स-निफ्टी डेढ़ फीसदी लुढ़के

 मुंबई । कंपनियों के कमजोर तिमाही नतीजे और विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) की भारी बिकवाली के दबाव में एलटी और रिलायंस समेत 25 दिग्गज क...


 मुंबई । कंपनियों के कमजोर तिमाही नतीजे और विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) की भारी बिकवाली के दबाव में एलटी और रिलायंस समेत 25 दिग्गज कंपनियों के करीब छह प्रतिशत तक लुढ़कने से आज शेयर बाज़ार में हाहाकर मच गया। बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 1062.22 अंक अर्थात 1.45 प्रतिशत की भारी गिरावट लेकर करीब तीन सप्ताह के निचले स्तर 72,404.17 अंक रह गया। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ़्टी 345.00 अंक यानी 1.55 प्रतिशत का गोता लगाकर 22 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के नीचे 21,957.50 अंक पर बंद हुआ। बीएसई की दिग्गज कंपनियों की तरह मझौली और छोटी कंपनियों में भी जमकर बिकवाली हुई। इससे मिडकैप 2.01 प्रतिशत लुढ़ककर 40,696.17 अंक और स्मॉलकैप 2.41 प्रतिशत टूटकर 45,037.83 अंक पर आ गया। इस दौरान बीएसई में कुल 3943 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ, जिनमें से 2910 में गिरावट जबकि 924 में तेजी रही वहीं 109 में कोई बदलाव नहीं हुआ। इसी तरह निफ्टी की 43 कंपनियां लाल जबकि शेष सात हरे निशान पर बंद हुईं। विश्लेषकों के अनुसार, देश में लोकसभा के तीसरे चरण के चुनाव के बाद भी कारोबारियों और निवेशकों को चुनावी नतीजे की स्पष्ट तस्वीर नहीं दिख रही है। इसका दबाव बाजार पर बना है। साथ ही कंपनियों के वित्त वर्ष 2023-24 की अंतिम तिमाही के कमजोर परिणाम ने भी निवेश धारणा को प्रभावित किया है। एशियन पेंट्स और हिंदुस्तान पेट्रोलियम के पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही के नतीजे अच्छे नहीं आए हैं। इनके अलावा एफआईआई की बिकवाली की वजह से शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई है। इस वर्ष मई में अब तक एफ़आईआई ने 2854 करोड रुपए की बिकवाली की है। साथ ही मार्च से जारी बिकवाली का दौर थमा नहीं है। मई में एफ़पीआई ने अब तक बाजार से 5076 करोड रुपये निकाले हैं। इससे बीएसई में ऑटो समूह की 0.57 प्रतिशत की बढ़त को छोड़कर शेष 19 समूहों में बिकवाली हावी रही। इससे कमोडिटीज 2.39, सीडी 0.88, ऊर्जा 3.23, एफएमसीजी 2.50, वित्तीय सेवाएं 1.70, हेल्थकेयर 1.91, इंडस्ट्रियल्स 2.92, दूरसंचार 1.78, यूटिलिटीज 2.59, बैंकिंग 0.87, कैपिटल गुड्स 3.37, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 1.27, धातु 3.13, तेल एवं गैस 3.41, पॉवर 2.46, रियल्टी 2.39 और सर्विसेज सामह के शेयर 2.07 प्रतिशत टूट गए। वहीं, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मिलाजुला रुख रहा। इस दौरान ब्रिटेन का एफ़टीएसई 0.05, जर्मनी का डैक्स 0.34, हांगकांग का हैंगसेंग 1.22 और चीन का शंघाई कम्पोजिट 0.83 प्रतिशत मजबूत जबकि जापान का निक्केई 0.34 और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 1.20 प्रतिशत कमजोर रहा। शुरूआती कारोबार में सेंसेक्स 33 अंक बढ़कर 73,499.49 अंक पर खुला और यही इसका दिवस का उच्चतम स्तर भी रहा। इसके बाद शुरू हुई बिकवाली के दबाव में यह लगातार गिरता हुआ कारोबार के अंतिम चरण में 72,334.18 अंक के निचले स्तर तक लुढ़क गया। अंत में पिछले दिवस के 73,466.39 अंक की तुलना में 1.45 प्रतिशत कमजोर होकर 72,404.17 अंक पर आ गया। वहीं, निफ्टी 78 अंक गिरकर 22,224.80 अंक पर खुला और सत्र के दौरान 22,307.75 अंक के उच्चतम जबकि 21,932.40 अंक के निचले स्तर पर रहा। अंत में पिछले सत्र के 22,302.50 अंक की तुलना में 1.55 प्रतिशत की भारी गिरावट के साथ 21,957.50 अंक पर बंद हुआ। इस दौरान सेंसेक्स की जिन कंपनियों के शेयरों ने नुकसान उठाया उनमें एलटी 5.56, एशियन पेंट 4.51, जेएसडब्ल्यू स्टील 3.46, आईटीसी 3.27, बजाज फाइनेंस 2.83, इंडसइंड बैंक 2.73, टाटा स्टील 2.47, एनटीपीसी 2.43, बजाज फिनसर्व 2.17, एचडीएफसी बैंक 2.10, रिलायंस 1.85, विप्रो 1.71, पावरग्रिड 1.61, टेक महिंद्रा 1.51, सन फार्मा 1.39, नेस्ले इंडिया 1.20, भारती एयरटेल 1.08, एक्सिस बैंक 0.90, आईसीआईसीआई बैंक 0.77, हिंदुस्तान यूनिलीवर 0.68, अल्ट्रासिमको 0.58, कोटक बैंक 0.46, टीसीएस 0.46, टाइटन 0.43 और मारुति 0.09 प्रतिशत शामिल रहे। वहीं, टाटा मोटर्स 1.77, महिंद्रा एंड महिंद्रा 1.37, एसबीआई 1.14, इंफोसिस 0.80 और एचसीएल टेक के शेयर 0.80 प्रतिशत लाभ में रहे।

No comments