Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

महाशिवरात्रि पर राजिम संगम में उमड़ेगी भीड़, प्रशासन अलर्ट

राजिम। 16 फरवरी से प्रारंभ हुए माघी पुन्नी मेला का समापन 1 मार्च महाशिवरात्रि को होगा। प्रतिवर्ष इस दिन श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है। छत्त...


राजिम। 16 फरवरी से प्रारंभ हुए माघी पुन्नी मेला का समापन 1 मार्च महाशिवरात्रि को होगा। प्रतिवर्ष इस दिन श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है। छत्तीसगढ़ से ही नहीं बल्कि पूरे देश से लोग पहुंचते हैं। त्रिवेणी संगम में तीन नदियां सोंढूर, पैरी एवं महानदी का मिलन होता है। यहां श्रद्धालुओं के स्नान के लिए दो स्नान कुंड बने हैं। दोनों में श्रद्धालुगण स्नान करते है तथा साधु-संतों का स्नान देखने लायक होता है। पुन्नी मेला के यह अंतिम स्नान साधु-संतों के डुबकी लगाते हुए अलौकिक दृष्य उभरकर सामने आते है। प्रमुख रूप से संगम घाट, अटल घाट, सोनतीर्थ घाट, नेहरू घाट, बेलाही घाट है। इन पांचों घाट के अलावा धार पर सुबह से स्नान का क्रम चलता है, श्रद्धालु डुबकी लगाते है तथा रेत से शिवलिंग बनाकर पूजा अर्चना करने की परंपरा यहां विद्यमान है। इस दिन श्रद्धालुगण सूखा लहरा भी लेते है। जनआस्था है कि मां पार्वती एवं शिवशंकर अन्य वेश धारण कर मेले का भ्रमण करते है। राजिम मेला अपनी विशालता के लिए जाना जाता है। तकरीबन 10 किमी के क्षेत्रफल में फैले इनकी सीमा तीन जिला धमतरी, रायपुर एवं गरियाबंद को छुती है। इसलिए तीनों जिला के नोडल अधिकारी व्यवस्था पर नजर गाड़ाए हुए है कि श्रद्धालुओं को कहीं पर कोई दिक्कत न हो। यहां तीन सेतु भी है जिनमें राजिम पुल, बेलाही पुल एवं चौबेबांधा पुल। यहां पर लाईटिंग से परिक्रमा पथ की साफ नजर आती है। महानदी महाआरती आकर्षण का केन्द्र है। स्थानीय पंडित परिषद के द्वारा प्रतिदिन आरती में प्रतिष्ठित एवं आमजन सम्मिलित होते है। पीएचई विभाग के द्वारा पिआउ पानी के लिए नल की व्यवस्था की गई है। लंबे चौड़े सड़कों पर लोग आसानी से आ-जा रहे है। सीसीटीवी कैमरा से पूरे मेला क्षेत्र को एक स्क्रीन पर कैद कर लिया है जिसमें हर हरकत की खबर मिनटों में चल जाती है। पार्किंग के अलावा पुलिस बल हर चौक-चौराहे पर तैनात है जिससे श्रद्धालुओं को मेला क्षेत्र पहुंचने में सहायता मिल रही है। मेला की ही अंदर मीना बाजार, सरस मेला, सांस्कृतिक कार्यक्रमों की बहार है। जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है ताकि श्रद्धालुओं को कहीं पर दिक्कत न हो।

No comments